अग्निवीर बनने दौड़े दो भाई, एक ही लक्षण से दोनों की मौत, उठी जांच की मांग

0
27
Two brothers ran to become Agniveer, both died same symptom, demand for investigation arose

बैतूल : मध्य प्रदेश के बैतूल में सेना भर्ती रैली में शामिल होने आए दो सगे भाइयों की चार दिन के भीतर मौत हो गई. दोनों भाई अलग-अलग दिन रैली में गए थे और दौड़ में हिस्सा लेने के बाद बेहोश हो गए थे। इलाज के दौरान दोनों की मौत हो गई। घटना के बाद से गांव में मातम छाया है।

दो सगे भाइयों की मौत के बाद अमला तहसील के दियामाहू गांव में सन्नाटा है. गांव में रहने वाले प्रयाग राज यादव के तीन बच्चे थे, दो लड़के और एक लड़की।

दोनों बेटों में बचपन से ही सेना में भर्ती होने का जुनून था, जिसके लिए वे पिछले तीन-चार साल से तैयारी कर रहे थे। इन दोनों भाइयों की देश सेवा का सपना अधूरा रह गया।

29 अक्टूबर को 23 वर्षीय रूपेंद्र यादव ने भोपाल के लाल परेड ग्राउंड में अग्निवीर भर्ती रैली में भाग लिया और वह भी भागे. दौड़ पूरी करने के बाद वह बेहोश हो गया जिसके बाद रूपेंद्र को अस्पताल में भर्ती कराया गया और परिजनों को सूचना दी गई।

बेटे की बीमारी की खबर पर पिता भोपाल पहुंचे और वहां से भूपेंद्र को बैतूल ले आए जहां उसे एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया. रूपेंद्र का 4 नवंबर को निधन हो गया। 12वीं तक पढ़ाई करने के बाद रूपेंद्र ने सेना में भर्ती होने की तैयारी शुरू कर दी।

जब रूपेंद्र का इलाज चल रहा था तो उसका 21 वर्षीय छोटा भाई अंकित यादव भी अग्निवीर भर्ती रैली में शामिल होने भोपाल गया था। अंकित 3 नवंबर को रेस में शामिल हुआ था, जिसके बाद वह भी बेहोश हो गया था।

Kanpur’s Agniveer Recruitment : अग्निवीर भर्ती में अलीगढ़ का आबिद ‘आकाश’ बनकर पहुंचा और पकड़ा गया

अंकित को भी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। खबर मिलते ही अंकित के परिजन भोपाल पहुंचे और उन्हें भी बैतूल लाकर एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन उनकी हालत में सुधार नहीं हुआ और 7 नवंबर को उनकी भी मौत हो गई.

दोनों भाइयों की मौत से डॉक्टर भी सदमे में हैं। दरअसल, दोनों भाइयों की मौत के लक्षण एक जैसे पाए गए हैं। दोनों की मौत लीवर और किडनी फेल होने और दिल में सूजन की वजह से हुई।

डॉक्टर का कहना है कि घटना संदिग्ध है। एक ही घर में दोनों भाई एक ही तरह मरते हैं। डॉक्टरों को संदेह है कि यह स्टैमिना बूस्टर के ओवरडोज के कारण हो सकता है।

जानकारों का मानना ​​है कि इस मामले की जांच होनी चाहिए। हालांकि दोनों भाइयों के शवों का पोस्टमार्टम नहीं हो पाया है। जो सैंपल लिए गए हैं उनकी रिपोर्ट आने के बाद ही सब कुछ साफ हो पाएगा।

वहीं, दोनों भाइयों की मौत के बारे में ग्रामीणों का कहना है कि उन्हें कोई बीमारी नहीं थी और वे पूरी तरह स्वस्थ थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here